Advertisement

Happy Makar Sankrtanti Shayri,wishes status Quotes SMS in Hindi

Happy Makar Sankrtanti Shayri, Wishes,status/Quotes and SMS  in Hindi

दोस्तो, मकर संक्रांति हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक हैं,  क्या आप जानते हैं कि मकर संक्रांति  (makar Sankranti ) कब मनाई जाती है.  तो आपको बता दें कि मकर संक्रांति का पर्व प्रत्येक वर्ष 14 जनवरी को मनाया जाता हैं.

दोस्तो क्या आप जानते हैं कि मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है (maker Sankranti Kyo Manai Jati hai )…नहीं तो हम आपको बता दें कि विक्रम संवत पंचांग यानि हिन्दू कैलेंडर सूर्य की गढ़ना पर आधारित हैं और इस दिन सूर्य मकर रेखा में प्रवेश करता है इसलिए सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है. 
दोस्तो मकर संक्रांति के इस तिल और गुड़ के त्यौहार पर हम आपके साथ  makar sankranti shayari,wishes,Quotes,SMS  लेकर आये हैं. आप मकर संक्राति पर इन खूबसूरत मकर संक्रांति शायरी व Wishes  को अपने परिवारजनों, दोस्तों व रिश्तेदारों को भेजकर मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दे सकते हैं.
दोस्तो आज का दौर व्हाट्सएप, फेसबुक जैसे सोशल मीडिया का हैं तो इन पर हम सभी अपने दोस्तों व परिवारीजनों को Whats-app & Facebook  भेजकर, उन्हे मकर संक्रांति स्टेटस के माध्यम से बंधाई दे सकते हैं.
तील हम है,और गुड़ हो आप,मिठाई हम है,और मिठास हो आप,
इस साल के पहले त्योंहार से हो रही आज शुरुआत…

आपको हमारी ओर से    *Happy Makar Sankrat*"
मंदिर की घंटी, आरती की थाली,नदी के किनारे सुरज की लाली,
जिंदगी में आये खुशियों की बहार,आपको मुबारक हो पतंगों का त्योंहार" 
"मुंगफली की खुश्बु और गुड़ की मिठास,दिलों में खुशी और अपनो का प्यार,
मुबारक हो आपको मकर संक्रांति का त्योंहार" 
कागज अपनी किस्मत से उड़ती है, औरपतंग अपनी काबिलियत से…
इसलिए किसमत साथ दे या ना दे…पर काबिलियत हमेशा साथ देती…

काबिल बनो… कामयाबी झक मार के पीछे दौड़ेगी…

Happy Makar Sankranti 
!! बिन बादल बरसात नहीं होती,सूरज के उगे बिना दिन की शुरुआत नहीं होती!
हम जानते है की हमारे बिना Wishes ke आप की कोई त्यौहार शुरुआत नहीं होती,

आप सभी को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं  !!
ख़ुशी का है यह मौसम,गुड और टिल का है यह मौसम,
पतंग उड़ाने का है यह मौसम,शांति और समृद्धि का है यह मौसम
2022  मकर संक्रांति की शुभकामनायें In Advance

Post a Comment

0 Comments